किडनी रोग के लक्षण और बचाव

किडनी रोग के लक्षण और बचाव, यह एक अत्यन्त गंभीर एवं जरूरी विषय है आज के परिद्र्श्य में. चूँकि आज हर पाँचवाँ व्यक्ति किडनी की किसी न किसी खराबी अथवा समस्या से रूबरू हो रहा है, जिसमें सबसे प्रमुख हैं किडनी फेफियर, किडनी में पथरी और किडनी इंफेक्सन्.
किडनी यानि गुर्दा हमारे शरीर का बहुत ही महत्वपूर्ण अंग होता है जिसका कार्य शरीर में विषाक्त पदार्थो को छानकर मूत्र के रूप में बाहर निकालता है. एक तरह से किडनी हमारे शरीर में रक्तशोधक का कार्य भी करती है हमारे अंदर खान पान के बाद जो भी विषैले पदार्थ रह जाते है उनको किडनी बहार निकलती है.
 



       गुर्दे की विफलता के लक्षण

  • हाथ पैर व आँखों के नीचे का भाग में सुजन आ जाती है!
  • ऑक्सीजन का कम होना और जिसके कारण चिड़चिड़ापन और एकाग्रता में कमी आए तो किडनी के बीमारी के लक्षण है।
  • रोगी को भूख नहीं लगती है और शरीर में खून की कमी होने लगती है
  • शरीर पीला पड़ जाता है व उलटी होने के साथ जी मचलाता है
  • सांसे फूलने लगती है और हाजमा भी खराब रहता है
  • मूत्र का त्याग करने के वक्त दर्द होना
  • अगर किडनी खराब है तो लंग्स में फ्लूइड जमने लगता है जिसके कारण साँस लेने में असुविधा होने लगती है।
  • यदि पीठ का दर्द पीठ के नीचले भाग से होते हुए पेड़ू-जांघ के जोड़ तक फैल जाता है तो समझिए कि आप इस बीमारी के शिकार हो रहे हो।
  • वैसे तो डॉक्टर्स की रिसर्च के अनुसार जब लोगो के शरीर में अनचाहे पदार्थो की मात्रा तीव्र गति से बढ़ने लगे और जमने लग जाये  तो ये किडनी खराब होने के लक्षणों को दर्शाता है |
  • वैसे किडनी की बीमारी में खून में यूरिया का स्तर बढ़ जाता है जिससे की यूरिया अमोनिया की तरह उत्पन्न होने लगता है जिसकी वजह से मुह से बदबू आने लगती है और स्वाद भी ख़राब हो जाता है .


गुर्दे की खराबी के कारण आने वाली आम समस्याएँ :

जब आप मूत्र करे तो झाग आने लगते है इस अवस्था में किडनी के ख़राब होने का संकेत होता है जिसमे आपको डॉक्टर की सलाह लेना जरुरी है | किडनी ख़राब होने की अवस्था में त्वचा में रैशेज और खुजली होने लगती है जो की इस वजह से होता है जब शरीर में विषाक्त पदार्थो जमने लगते है वैसे तो ये लक्षण कई तरह की बिमारिओ में पाया जाता है | मूत्र का रंग गाढ़ा हो जाता है जिससे की मूत्र की मात्रा में वृद्धि होती है और मूत्र का एहसास भी होने लगता है परंतु मूत्र निकलता नही है और मूत्र करते वक़्त दर्द, दबाव, और जलन का अनुभव भी होता है. 

जड़ी-बूटियों से कामयाब उपचार / पथरी/ शुगर/ सोरायसिस Kidney and Gall Bladder Stone treatment without Surgery by 100 Percent Herbals



मैं कभी भी दुबली नहीं थी पर मैने एक बात पर ध्यान दिया कि मैं मोटी होती जा रही थी.मेरे पेट पर तीन घेरे पड गए थे और मैं बिकिनी में बुलडॉग की तरह दिखती थी, साथ ही मेरे कूल्हों, पैरों और नितम्बों का आकार बढ़ता ही जा रहा था! मेरी एक सहेली के कहने से मैंने फिर अलौकिक उपचार की हर्बल जड़ी बूटियों से बनी मंत्र सिद्ध औषधि मंगवाई.










टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

1 महीने में 8 किलो वजन घटाया!

ऑपरेशन से बचना है तो अपनाएं अलौकिक उपचार

पथरी को करें छूमंतर बिना सर्जरी